Men’s Panchtantra : विवाह

Please Share :

Men’s Panchtantra – विवाह

 

Dr. G.Singh


Men’s Panchtantra – विवाह

Dr. G.Singh

एक लड़का मंदिर में पडित जी के पास आता है उसके साथ एक महिला भी है लड़के और पंडित जी के बिच हुए सवाद के कुछ अंश

लड़का : पंडित जी नमस्कार

पंडित : नमस्कार पुत्र कैसे हो तुम

लड़का : मैं अच्छा हूँ पंडित जी आप कैसे हैं

पंडित : मैं भी अच्छा हूँ क्या किसी कार्यवश आये हो

लड़का : जी पंडित जी पंडित जी मुझे शादी करनी है

पंडित : अवश्य पुत्र उम्मीद है तुमने शादी के जिए आवशयक अध्धयन कर लिया होगा

लड़का : जी पंडित जी में बालिग हूँ और पढ़ा लिखा हूँ

पंडित : क्या तुमने IPC 498a 376 377 506 304b crpc 125 hma24 आदि का अध्ययन कर लिया है

लड़का : पंडित जी विवाह एक आत्मिक बंधन है

पंडित : बिलकुल है पुत्र

लड़का : फिर आप इसमें ipc और crpc को क्यों ला रहे हैं

पंडित : पुत्र विवाह का जो रूप हमारे समाज में प्रचलित था वह अवश्य ही आत्मिक बंधन था परन्तु वक़्त हर वस्तु एवं सम्बन्ध को बदल देता है

पंडित : वर्तमान में विवाह आत्मिक बंधन नहीं बल्कि कानूनी एग्रीमेंट से अधिक कुछ नहीं है

लड़का : कैसी बात कर रहे है पंडित जी

पंडित : बिल्कुल पुत्र तुम्हे पूरा ज्ञान होना चाहिए कि तुम पर अपराधी की तरह दहेज़ मांगने का मुकदमा चलाया जा सकता है इसके साथ ही तुम पर Domestic Violence का मुकदमा भी चलाया जा सकता है

लड़का : परन्तु पंडित जी में न तो दहेज़ ले रहा हूँ और न ही मैं कोई जानवर हूँ जो पत्नी के साथ मारपीट करूंगा बल्कि में तो दहेज़ विरोधी हूँ

पंडित : सही है पुत्र परन्तु दहेज़ Domestic Violence आदि का मुकदमा चलने के लिए तुम्हारा दहेज़ समर्थक होना आवशय नहीं है

लड़का : ऐसा कैसे हो सकता है पंडित जी

पंडित : बिलकुल हो सकता है पुत्र | एक संस्था के मुताबिक दहेज़ के 98-99 % मुक़दमे झूठे होते हैं

लड़का : ऐसा कैसे हो सकता है पंडित जी अगर मैंने दहेज़ नहीं माँगा तो सबूत कहां से आएगा मुकदमा चलने के लिए

पंडित : साबुत की आवशयकता नहीं है पुत्र पत्नी का बयान ही काफी है

लड़का : पत्नी अपना घर क्यों बरबाद करेगी पंडित जी झूठा बयान देकर

पंडित : पुत्र हमारा समाज इसी गतल धरना में फसा हुआ है सालो से महिला भी इंसान है और उसमे झूठ बोलने की उतनी ही समर्थ है जितना कोई अन्य प्राणी इसके अतिरिख बहुत सारे कारन हो सकते है झूठा मुकदमा दर्ज़ करवाने के जैसे की पति को मजबूर करना अपने सयुंक्त परिवार से अलग होने के लिए या लड़की का बॉय फ्रेंड या कोई अन्य कारण

लड़का : आपका मतलब है की अगर मैंने कोई अपराध नहीं किया तब भी मेरी पत्नी या गर्ल फ्रेंड मुझे झूठे मुक़दमे में फसा सकती है

पंडित : बिलकुल पुत्र तुम्हे पूरा ज्ञान होना चाहिए कि तुम पूरी तरह निर्दोष होते हुए भी अपराधी की तरह जेल जा सकते हो क्योंकि तुमने भारतीय महिला से विवाह करना चुना तुम्हारी मेहनत प्रतिष्ठा सब ख़तम हो सकता है

लड़का : पंडित जी क्या यह जानकारी देना आपका काम है

पंडित : बिल्कुल पुत्र यह जिमेदारी हर पुरुष की है कि वो अगली जनरेशन को सावधान करे

लड़का : इसके अलावा कुछ और पंडित जी

पंडित : लड़की की जाति क्या है पुत्र

लड़का : में आधुनिक सोच का लड़का हूँ पंडित जी ऊंच नीच जाति को नहीं मानता

पंडित : पुत्र में भी नहीं मानता

लड़का : तो फिर

पंडित : तुम्हे यह पता होना जरूरी है कि अगर तुम SC/ST कन्या से विवाह करते हो तो तुम पर SC/ST Act के तहत भी कार्यवाही कर सकते हैं

लड़का : तो क्या SC/ST की कन्या से विवाह करना अच्छा नहीं है पंडित जी

पंडित : ऐसा नहीं है पुत्र मानव मात्र सब एक समान है परंतु अपनी सुरक्षा अपने आप की करनी एवम सोचनी पड़ती है पुत्र

लड़का : मेरी आँखें खोंले के लिए धन्यवाद पंडित जी अब में शादी नहीं बल्कि विवाहित विचारों का पिंड दान करने वाराणसी जा रहा हूँ